MP में कितने जिले हैं | मध्य प्रदेश में कुल कितने जिले हैं उनके नाम की लिस्ट

आज के इस पोस्ट में जानेंगे MP में कितने जिले हैं और उनके नाम क्या हैं. भारत छेत्रफल के दृष्टि से एक विशाल देश होने की वजह को भारत को 28 राज्यों में बांटा गया हैं जिसमें मध्य प्रदेश राज्य भी शामिल हैं. मध्य प्रदेश छेत्रफल की दृष्टि से भारत का दूसरा सबसे बड़ा राज्य हैं, जबकि पहले स्थान पर राजस्थान हैं. मध्य प्रदेश का छेत्रफल 308,245 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ हैं. अगर जनसंख्या के आधार पर बात करे तो मध्य प्रदेश भारत का पांचवा सबसे बड़ा राज्य हैं. साल 2011 में हुये जनगणना के अनुसार एमपी की जनसंख्या 7 करोड़ 26 लाख से अधिक थी.

इसके अलावा मध्य प्रदेश अर्थव्यवस्था के आधार पर भारत का 10वां सबसे बाद अर्थव्यवस्था राज्य हैं जिसका GDP 9.17 ट्रिलियन डॉलर की हैं. मध्य प्रदेश में प्रति व्यक्ति की आय 1,09,372 रुपये होने की वजह से यह भारत की 26वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था हैं. आपको जानकर हैरानी होगी मध्य प्रदेश भारत की स्वतंत्रता के बाद नागपुर की राजधानी हुआ करती थी लेकिन वर्तमान में मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल हैं जिसे झीलों के शहर के रूप में जाना जाता हैं. इंदौर मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा शहर हैं. आपको बता दे मध्य प्रदेश राज्य का गठन 1 नवंबर 1956 हुआ था. तो आईये जानते हैं MP Me Kitne Jile Hai Unke Naam.

MP में कितने जिले हैं

मध्य प्रदेश में कुल 52 जिले हैं. वैसे तो एमपी में जिलों की संख्या 55 हैं लेकिन 3 ऐसे जिले हैं जिनको जिला होने का मान्यता प्राप्त नही हैं. नागदा, चाचौड़ा और मैहर को जिला बनाने का प्रस्ताव भेजा जा चुका हैं. अगर नागदा, चाचौड़ा और मैहर एक जिला होने का मान्यता प्राप्त हो गया तो मध्य प्रदेश में कुल जिलों की संख्या 52 से बढकर 55 हो जायेगी. वर्तमान में एमपी की जिलों की संख्या 52 हैं. नागदा जिला उज्जैन से अलग होकर बनेगा, चाचौड़ा जिला गुना से अलग होकर बनेगा और मैहर जिला सतना से अलग होकर बनेगा. इस प्रकार से मान्यता मिलने के बाद जिलों की संख्या 52 से 55 हो जायेगी. मध्य प्रदेश राज्य गठन के समय कुल जिलों की संख्या 43 थी लेकिन 1972 में 2 और जिला बना.

जिसके बाद एमपी की जिलों की संख्या 45 हो गई. साल 1998 में बड़े जिलों में से 16 नए जिले बनाये गए जिसको मध्य प्रदेश राज्य में शामिल किया गया. इस तरह से जिलों की संख्या 61 हो गई. आज वर्तमान में 16 जिलों में से 7 जिले ही मध्य प्रदेश में स्थित हैं. साल 2000 में मध्य प्रदेश से छत्तीसगढ़ को अलग करके एक नया राज्य होने का दर्जा दे दिया जिसमें 16 जिले को शामिल किया गया था. इस प्रकार फिर से मध्य प्रदेश की जिलों की संख्या 45 हो गई. साल 2003 में फिर से 3 नए जिले का निर्माण हुआ और इसको भी मध्य प्रदेश में शामिल किया गया.

इस तरह से MP की जिलों की संख्या 45 से 48 हो गई. इसके बाद 2008 में 2 नया जिले बनाये गए और इसे भी मध्य प्रदेश में शामिल किया गया. अब मध्य प्रदेश में कुल किलों की संख्या 50 हो गई. इसके बाद 16 अगस्त 2013 में एक नया जिला बनाया गया. अब जिलों की संख्या 50 से 51 हो गई हैं. 1 अक्टूबर 2018 को निवाड़ी नाम से नया जिला बना जिसे एमपी में शामिल किया और इस तरह फिर से 51 से बढ़कर 52 जिला हो गया. 18 मार्च 2020 को 3 नए जिलों को प्रस्ताव दिया जा चुका हैं. अगर 3 और जिलों का निर्माण हो जाता हैं तो वर्तमान में कुल जिलों 55 तक पहुंच जायेगी.

मध्य प्रदेश के 52 जिलों का नाम

मध्य प्रदेश भारत का एक राज्य हैं और इसे 52 जिलों में विभाजित किया गया हैं. यहां पर आप मध्य प्रदेश के सभी जिलों की लिस्ट देख सकते हैं.

  1. अगर मालवा
  2. अलीराजपुर
  3. अनूपपुर
  4. अशोकनगर
  5. बालाघाट
  6. बड़वानी
  7. बैतूल
  8. भिंड
  9. भोपाल
  10. बुरहानपुर
  11. छतरपुर
  12. छिंदवाड़ा
  13. दमोह
  14. दतिया
  15. देवास
  16. धार
  17. डिंडोरी
  18. गुना
  19. ग्वालियर
  20. हरदा
  21. होशंगाबाद
  22. इंदौर
  23. जबलपुर
  24. झाबुआ
  25. कटनी
  26. खंडवा
  27. खरगोन
  28. मंडला
  29. मंदसौर
  30. मुरैना
  31. नरसिंहपुर
  32. नीमच
  33. निवाड़ी
  34. पन्ना
  35. रायसेन
  36. राजगढ़
  37. रतलाम
  38. रीवा
  39. सागर
  40. सतना
  41. सीहोर
  42. सिवनी
  43. शहडोल
  44. शाजापुर
  45. शिवपुरी
  46. शेवोपुर
  47. सीधी
  48. सिंगरौली
  49. टीकमगढ़
  50. उज्जैन
  51. उमरिया
  52. विदिशा

मध्य प्रदेश में कितने संभाग हैं

मध्य प्रदेश में कुल 10 संभाग हैं जिनके नाम आप इस लिस्ट में देख सकते हैं.

  1. भोपाल संभाग
  2. जबलपुर संभाग
  3. इंदौर संभाग
  4. ग्वालियर संभाग
  5. सागर संभाग
  6. उज्जैन संभाग
  7. शहडोल संभाग
  8. चंबल संभाग
  9. रीवा संभाग
  10. होशंगाबाद / नर्मदापुरम संभाग

मध्य प्रदेश के 10 सर्वाधिक जनसंख्या वाले जिलों का नाम

रैंकजिलाजनसंख्या
1इंदौर3,276,697
2जबलपुर2,463,289
3सागर2,378,458
4भोपाल2,371,061
5रीवा2,365,106
6सतना2,228,935
7धार2,185,793
8छिंदवाड़ा2,090,922
9ग्वालियर2,032,036
10उज्जैन1,986,864

मध्य प्रदेश के 10 सर्वाधिक छेत्रफल वाले जिलों का नाम

रैंकजिलाछेत्रफल (वर्ग किलोमीटर)
1छिंदवाड़ा11,815
2शिवपुरी10,278
3सागर 10,252
4बेतुल10,043
5बालाघाट9,229
6शिवनी8,758
7छतरपुर8,687
8रायसेन8,446
9धार8,153
10सतना7,502

मध्य प्रदेश के 10 सर्वाधिक साक्षरता वाले जिलों का नाम

रैंकजिलासाक्षरता
1जबलपुर 81.07%
2इंदौर80.87%
3भोपाल80.37%
4बालाघाट77.09%
5ग्वालियर76.65%
6सागर76.46%
7नरसिंहपुर75.69%
8होशंगाबाद75.29%
9भिंड75.26%
10रायसेन72.98%

मध्य प्रदेश के सर्वाधिक लिंगानुपात वाले जिलों का नाम

रैंकजिलालिंग अनुपात
1बालाघाट1021
2अलीराजपुर1011
3मंडला1008
4डिंडोरी1002
5झाबुआ990
6बड़वानी982
7सिवनी982
8अनूपपुर976
9शाहडोल974
10बेतुल971

मध्य प्रदेश में कितने जिले हैं से संबंधित सवाल

2023 में एमपी में कितने जिले है?

2023 में एमपी में 52 जिले हैं.

मध्य प्रदेश का 53वां जिला कौन सा होगा?

18 मार्च 2020 को 3 नया जिला बनाने का प्रस्ताव दिया जा चुका हैं. अगर सरकार द्वरा मान्यता प्राप्त हो जाती हैं तो नागदा मध्य प्रदेश का 53वां जिला होगा और इस जिला को उज्जैन से लिया जायेगा.

मध्य प्रदेश में 51वां जिला कौन सा है?

मध्य प्रदेश में 51वां जिला आगर मालवा हैं जिसे 16 अगस्त 2013 को एक नया जिला के रूप में बनाया गया था.

मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा जिला कौन है?

मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा जिला छिंदवाड़ा और इंदौर हैं. छिंदवाड़ा जिला छेत्रफल की दृष्टि से बड़ा हैं, जबकि इंदौर जिला जनसंख्या की दृष्टि से बड़ा हैं.

निष्कर्ष

आज के पोस्ट में आपने Madhya Pradesh Me Kul Kitne Jile Hai इसके बारे में जानकारी हिंदी में प्राप्त हासिल की हैं. मुझे उम्मीद हैं आपको इस पोस्ट से MP के कुल जिलों का नाम पता चल गया होगा. मध्य प्रदेश वर्तमान में कुल 52 जिले और 10 संभाग हैं. इसके अलावा 3 अन्य जिला नागदा, चाचौड़ा और मैहर प्रस्तावित हैं. अगर इन तीनों को जिले बनने का दर्जा प्राप्त हो गया तो एमपी में कुल 55 जिला हो जायेगा. भारत के राज्यों के गठन के समय मध्य प्रदेश भारत का सबसे बड़ा राज्य हुआ करता था लेकिन समय के साथ जिले को लेकर मध्य प्रदेश में काफी फेरबदल हुए, नही तो आज छेत्रफल के हिसाब से MP भारत का सबसे बड़ा राज्य होता.

Leave a Comment